विवादित पोस्ट मामले में गिरफ्तार हुए ग्रुप एडमिन व आपत्तिजनक पोस्ट डालने वाले सदस्य

राजू कुमार केशरी, बेगूसराय

अब तक कई ऐसे पोस्ट शेयर किये जा चुके हैं जिसमें आगाह किया जाता रहा है कि किसी भी ग्रुप में अगर कोई आपत्तिजनक पोस्ट डालेगा तो उस ग्रुप के एडमिन भी जिम्मेदार होंगे ! डालने वाले व्यक्ति और ग्रुप एडमिन दोनों पर कार्रवाई की जाएगी पर, इस निर्देश का पालन नहीं करना एक ग्रुप एडमिन और उसके एक सदस्य को काफी भारी पड़ा ! बेगूसराय में एक ऐसी ही घटना घटी है जिसमें ग्रुप एडमिन और पोस्ट डालने वाले दोनों को पुलिस ने अरेस्ट किया है ! धार्मिक भावनाओं को ठेंस पहुँचाने की नीयत से आपत्तिजनक पोस्ट डालने के बाद उस ग्रुप के एडमिन और पोस्ट डालने वाले दोनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है ! बिहार के बेगूसराय जिले में यह घटना घटी है ! क्रांति पाठक नाम के एक व्यवसायी जो खुद को पत्रकार भी बताते रहे हैं ने क्रांति टाइम्स नाम से व्हाट्सएप पर ग्रुप बनाया था ! जिसमें कई लोगों को उन्होंने जोड़ रखा था ! मंगलवार की रात करीब 8 बजकर 54 मिनट पर बेगूसराय भाजपा नेता रौनक कुमार ने धार्मिक भावनाओं को ठेंस पहुंचाती एक पोस्ट ग्रुप में शेयर कर दिया. जिसके बाद ग्रुप में बवाल मचना शुरू हो गया !
गिरफ्तार भाजपा नेता रौनक कुमार और ग्रुप एडमिन क्रांति पाठक माफी मांगने का सिलसिला भी चला लेकिन आहत हुए एक व्यक्ति ने इसकी शिकायत थाना में कर दी , जिसके बाद एसपी के निर्देश पर बेगूसराय पुलिस ने आरोपी भाजपा नेता रौनक कुमार व ग्रुप एडमिन क्रांति पाठक को गिरफ्तार कर लिया ! पुलिस ने दर्ज FIR में कहा है कि ग्रुप में धार्मिक भावनाओं पर चोट किया गया है ! जिस वजह से सांप्रदायिक दंगे भड़क सकते थे इसे आधार मान कर दोनों को गिरफ्तार किया गया है !
गिरफ्तार हुए भाजपा नेता रौनक कुमार व ग्रुप एडमिन क्रांति पाठक
बता दें कि गिरफ्तार हुए ग्रुप एडमिन बालू-गिट्टी का व्यवसाय करते हैं ! सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने के लिए उन्होंने यह ग्रुप बनाया था , जिसमें कई लोगों को उन्होंने सदस्य बना लिया था ! बिना जाने पहचाने ग्रुप में किसी को सदस्य बना लेना उनके लिए भारी पड़ गया ! इस ग्रुप में गलत इरादे से एक भाजपा नेता रौनक कुमार ने धर्म विशेष को आहत करने वाली विवादित पोस्ट ग्रुप में डाल दिया जिसका खामियाजा उन्हें उठाना पड़ा है !

x

Check Also

जवानों ने जंगल में गुजारी जिंदगी की सबसे खौफनाक रात

उधर खतरा बढ़ रहा था और इधर गोलियां कम पड़ रही थी डीआरजी और STF थे…इसलिए सुरक्षित बच पाये…CRPF होती ...